उत्तर भारत में मौसम ने करवट ले ली है। लू के थपेड़ों और उमस भरी गर्मी से बुधवार को कई स्थानों पर लोगों को राहत मिली। कहीं धीमी तो कहीं तेज बारिश हुई, लेकिन इस दौरान आई आंधी व आकाशीय बिजली गिरने से कई लोगों की मौत हो गई। उप्र, मप्र, राजस्थान और झारखंड में कुल 26 लोगों की जान चली गई।

उत्तर प्रदेश में आंधी व बारिश से लोग हलकान-

उप्र में आंधी के बाद कहीं तेज तो कहीं हल्की बारिश हुई, लेकिन इस दौरान बिजली की चपेट में आने से प्रदेश में सात लोगों की मौत हो गई जबकि दर्जनों लोग घायल हो गए। कानपुर समेत आसपास के कुछ जिलों में बुधवार को भीषण तपिश के बाद बारिश हुई। कानपुर देहात में आंधी के साथ बादल छाए, लेकिन बूंदाबांदी नहीं हुई। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ में आंधी के बाद बारिश से कुछ स्थानों पर पेड़ व बिजली के खंभे टूट गए।

बदले मौसम से राजस्थान में 6 लोगों की मौत-

वहीं राजस्थान में मंगलवार आधी रात बाद आए तूफान और बारिश से छह लोगों की मौत हो गई। इनमें हनुमानगढ़ में तीन, धौलपुर में दो और भरतपुर में एक की मौत हुई है। राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष से आर्थिंक सहायता उपलब्ध कराने के लिए तीनों जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए है। इधर, पिछले दस दिनों से चल रहे भीषण गर्मी के दौर से बुधवार को प्रदेश के आधा दर्जन जिलों में राहत मिली।

मध्य प्रदेश में कई जगह जमकर बरसे मेघ-

मध्य प्रदेश में भी कई जगह आंधी के साथ जमकर बारिश हुई। इस दौरान हुए हादसों में नौ की जान चली गई। बड़वानी में दीवार गिरने से दादी-पोती की मौत हुई है जबकि विंध्य के सतना, सीधी और रीवा में बुधवार को आकाशीय बिजली गिरने से दंपती समेत सात लोगों को जान गंवाना पड़ा। झारखंड में भी मानसून के पहले ही लगातार हो रहे वज्रपात ने लोगों को डरा दिया है। बुधवार को भी वज्रपात में दो बहनों समेत चार लोग अपनी जान गवां बैठे।

उत्तरखंड में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त-

उत्तराखंड में मंगलवार रात हुई बारिश और अंधड़ से कई घरों में पानी घुस गया। उत्तरकाशी के बड़कोट के निकटवर्ती धारा कलोगी गांव में आकाशीय बिजली से 22 मवेशी मारे गए। जबकि पिथौरागढ़ में आधा दर्जन मवेशी सड़क के मलबे में जिंदा दफन हो गए। चारधाम यात्रा पूरे दिन सुचारु रही।

मौसम विभाग की चेतावनी, दिल्ली में कल आएगी तेज आंधी-

प्री-मॉनसून बारिश के दौर से पहले मौसम विभाग ने दिल्ली एनसीआर के लिए चेतावनी जारी की है। गुरुवार की सुबह हल्की बूंदाबांदी के साथ तेज हवाएं भी चल सकती हैं। वहीं शुक्रवार को तेज आंधी की संभावना बनी हुई है। इस दौरान हवाओं की गति 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से अधिक रह सकती है।

मौसम विभाग के अनुसार, पश्चिमी हिमालय क्षेत्र और उत्तर पश्चिमी भारत में सक्रिय हो रहे पश्चिमी विक्षोभ के कारण सात और आठ जून को कई राज्यों में आंधी बारिश की संभावना बनी हुई है। इसी के साथ मानसून से पहले ही दिल्ली में रुक रुककर बारिश भी होना शुरु हो जाएगी।