News Flash: चित्रकोट विधानसभा उप निर्वाचन-2019,नाम निर्देेशन पत्रों की संवीक्षा में दो उम्मीदवारों का नाम निर्देशन पत्र निरस्त अब सात उम्मीदवार शेष  ||   सोशल मीडिया अकाउंट को आधार से जोड़ने की मांग(लक्ष्मी)  ||   छात्रा से यौन शोषण का आरोपी चिन्मयानंद गिरफ्तार, पूछताछ में बोला- मैं शर्मिंदा हूं(लक्ष्मी)  ||    जानिए बड़ौदा विधानसभा सीट के बारे में(लक्ष्मी)  ||   पाकिस्तान की ओर से राजस्थान में टिड्डी दलों के हमले की आशंका, चार जिले निशाने पर(लक्ष्मी)  ||   राजस्थान में तीन लोगों ने किया 15 साल की लड़की का रेप, आरोपी गिरफ्तार(लक्ष्मी)  ||   राजस्थान का बदला लेंगी मायावती? बसपा के आक्रामक तेवर से कांग्रेस की धड़कनें तेज(लक्ष्मी)    ||   पैसा, पैरवी और पावर वाले विधायक को बचाने में लगी सरकार''(लक्ष्मी)  ||    दारोगा बहाली आदेश को चुनौती देगी राज्य सरकार (लक्ष्मी)  ||   छात्रा के साथ मौलाना ने किया था रेप, मिली ये सजा(लक्ष्मी)  ||  

राजनांदगांव : रबी 2018-19 हेतु फसल बीमा की अंतिम तिथि 31 दिसंबर तक.[शुभ]

15 Dec 2018 07:17pm |

 फसल बीमा योजनांतर्गत रबी 2018-19 की अधिसूचना कृषि विभाग Ÿाीसगढ़ शासन द्वारा जारी की जा चुकी है। योजनांतर्गत फसल को प्रतिकूलमौसम सूखाबाढ़कीट व्याधिओलावृष्टि आदि प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान से कृषकों को राहत दिलाने हेतु योजना प्रारंभ की गई है। जिलेके लिये मुख्य फसल चना एवं अन्य फसल गेहूं सिंचितगेहूं असिंचितराईसरसों एवं अलसी अधिसूचित है।

बीमा हेतु इकाई क्षेत्र-

       फसल बीमा योजनांतर्गत ग्रामीण क्षेत्र मंे ग्राम पंचायत एवं नगरीय क्षेत्रांे में ग्राम को बीमा इकाई निर्धारित किया गया है। बीमा इकाई क्षेत्र में गत वर्षके आंकड़ों के आधार पर न्यूनतम रकबा 10 हेक्टेयर से अधिक होने की स्थिति मंे फसल को संबंधित ग्राम पंचायत हेतु अधिसूचित माना जायेगा।

बीमा मंे शामिल किये जाने वाले कृषक-

       फसल बीमा योजनांतर्गत ऋणी एवं अऋणी कृषक जो भू-धारक  बटाईदार हो सम्मिलित हो सकते है।

ऋणी कृषक के लिये बीमा अनिवार्य है-

       ऋणी कृषकों का अनिवार्य रूप से फसल बीमा किया जाना है। जिसके अंतर्गत ऐसे सभी कृषक जिनका मौसम रबी वर्ष 2018-19 हेतु अधिसूचितफसल के लिए विŸाीय संस्थानों से मौसमी कृषि ऋण की सीमाकृषकों के बीमा आवेदनप्रस्ताव प्राप्त करने की अंतिम तिथि या उसके पूर्वस्वीकृतनवीनीकृत की गई हो। एक ही अधिसूचित क्षेत्र एवं अधिसूचित फसल के लिए अलग-अलग विŸाीय संस्थानों से कृषि ऋण स्वीकृत होने कीस्थिति में कृषक को एक ही विŸाीय संस्थान से बीमा करवाना होगा एवं इसकी सूचना संबंधित बैंक को देनी होगी।

अऋणी कृषक (स्वैच्छिक आधार पर)-

       अधिसूचित फसल उगाने वाले सभी अऋणी कृषक जो इस योजना में शामिल होने का इच्छुक होवे क्षेत्र बुआई पुष्टि प्रमाण-पत्र जो क्षेत्रीयपटवारीग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी द्वारा सत्यापित हो तथा अन्य अनिवार्य दस्तावेज प्रस्तुत कर योजना मंे सम्मिलित हो सकते है। किसान कोसुनिश्चित करना  होगा कि उसे कृषि योग्य भूमि पर कृषि किये जाने के लिये प्रस्तावित अधिसूचित फसल फसलांे के लिये एकल óोत से ही बीमाआच्छादन प्राप्त कर रहे है। दूसरे शब्दों मंे एक ही रकबे हेतु एक से अधिक बार बीमा कराने की अनुमति नहीं है। एक ही रकबा का दुगना बीमा करनेकी स्थिति मंे बीमा कंपनी के पास ऐसे सभी दस्तावेजांे को निरस्त करने का अधिकार होगा और ऐसे कृषकांे का प्रीमियम वापस किया जावेगा।

अलग-अलग बैंक से कृषि ऋण स्वीकृत-

       फसल बीमा योजना के अधिसूचना अनुसार ऋणी कृषक जो अलग-अलग विŸाीय संस्थाओं से कृषि ऋण स्वीकृत कराये है ऐसे कृषक केवल एकबैंक से ही योजनांतर्गत अधिसूचित फसलों का बीमा कराएं। अलग-अलग बैंकांे से समान खसरे एवं रकबे का बीमा कराने के कारण अधिसूचित ग्रामपंचायत में क्षेत्र विसंगति कारक लागू होता हैजिसके कारण संबंधित ग्राम पंचायत मंे कृषकों को तुलनात्मक रूप से कमनगण्य बीमा दावाक्षतिपूर्तिभुगतान की स्थिति बनती हैजो कि कृषकांे के हित में नहीं होता है। यदि किसी कृषक का अलग-अलग बैंकों से कृषि ऋणमान स्वीकृत हैऐसी स्थिति मेंसंबंधित कृषक से आग्रह किया जाता है कि एक बैंक से अपने फसल का बीमा कराये एवं दूसरे बैंक को इसकी जानकारी आवश्यक रूप से प्रदान करें।     

बीमा हेतु प्रीमियम राशि दर-

       फसल बीमा योजनांतर्गत रबी वर्ष 2018-19 हेतु तालिका मंे दर्शित अनुसार जिले हेतु स्वीकृत कृषि ऋणमान का 1.5 प्रतिशत प्रीमियम राशि कृषकोंको देय होगी।

बीमा कराने के लिये आवश्यक दस्तावेज-

       ऋणी कृषकों का बीमा संबंधित बैंकसहकारी समिति द्वारा अनिवार्य रूप से किया जायेगाउन्हें केवल घोषणा एवं बुवाई प्रमाण पत्र प्रस्तुत करनाहोगा। अऋणी कृषक बैंकसहकारी समिति एवं लोक सेवा केन्द्र में बीमा प्रस्ताव फार्मआधारकार्डबैंक पासबुकभू-स्वामित्व साक्ष्य (बी-1पांचसाला)किरायदारसाझेदार कृषक का दस्तावेजबुवाई प्रमाण पत्र एवं घोषणा पत्र प्रदाय कर बीमा करा सकते हैं।

बीमा कहां कराये -

       कृषकों द्वारा फसल बीमा कराने हेतु अपने संबंधित समिति बैंकबीमा प्रदाय कंपनी (बजाज एलायंज जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमि.), लोक सेवाकेन्द्र के माध्यम से अपनी फसलों का बीमा करा सकते हैं।

प्रत्येक ग्राम पंचायत पर 1 से 15 दिसंबर 2018 तक शिविरों का आयोजन-

       फसल बीमा योजनांतर्गत जिले के शत-प्रतिशत कृषकों को बीमा आवरण में लाने हेतु 1 से 15 दिसंबर 2018 तक अधिसूचित ग्राम पंचायतों में किसानग्रामसभाशिविर आयोजित किये जा रहे है। ग्राम सभाशिविरों मंे उपस्थित राजस्व विभाग के पटवारीकृषि विभाग के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारीएवं बैंकसहकारी समिति के अधिकारी-कर्मचारी से सम्पर्क कर अऋणी कृषक प्रीमियम राशि जमा कर अधिसूचित फसलों का बीमा करा सकते हैं।

       विगत रबी वर्ष 2017-18 में योजनांतर्गत 67 हजार 732 कृषकों द्वारा फसल बीमा कराया गया थाजिसमें 38 हजार 231 कृषकों को फसल क्षतिपूर्तिराशि 30 करोड़ 88 लाख का भुगतान किया गया है।

       उप संचालक कृषि द्वारा किसान भाईयों से आग्रह किया गया। मौसम की अनिश्चितता को देखते हुए अधिक से अधिक संख्या में कृषक अपने फसलोंका फसल बीमा योजनांतर्गत बीमा कराये। ऐसे कृषक जो बैंक से डिफाल्टर की श्रेणी में हैंवो भी अऋणी कृषक के रूप में अपने फसलों का बीमा करासकते हैं। फसलों का बीमा करवाने हेतु निर्धारित तिथि तक कृषक अपने नजदीकी सहकारी समितिबैंक में सम्पर्क कर सकते हैं।


ताजा समाचार



  • Follow us:
.