News Flash: रायपुरःछत्तीसगढ़ में यलो अलर्ट, 24 से 48 घंटे में भारी बारिश का पूर्वानुमान[न]  ||   पटनाःबिहार में हादसों का ब्‍लैक फ्राइडे दो सड़क दुर्घटनाओं में पांच की मौत कई घायल[न]   ||   दिल्लीःकल से थम जाएंगे लाखों ट्रकों के पहिए ट्रांसपोर्टर्स ने दी हड़ताल की धमकी[न]   ||   दिल्लीःअपने प्रोडक्‍ट में नमक की मात्रा कम करेगा पेप्सिको[न]   ||   दिल्लीःबाजार में गिरावट सैंसेक्स 22 अंक गिरा और निफ्टी 11000 के नीचे बंद[न]   ||   नई दिल्ली:कांग्रेस ने हर घर में बिजली पहुंचाने का वादा पूरा नहीं किया[न]   ||     वॉशिंगटनः'अमरीका के लिए भारत ‘बड़ी प्राथमिकता’'[न]   ||   पांच जजों की संवैधानिक पीठ पर धारा 377 को लेकर सुनवाई शुरू, समलैंगिकता अपराध है या नहीं इस पर हो रही है सुनवाई  [भ]     ||   दिल्ली में एयरहोस्टेस की कथित खुदकुशी के मामले में पति मयंक सिंघवी को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया. [भ]  ||   मॉनसून सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल होने के लिए संसद पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी [भ]  ||  

चेन्नईः SC/ST कानून कमजोर करने के खिलाफ DMK के नेतृत्व में विपक्ष का प्रदर्शन

16 Apr 2018 04:59pm |

 

चेन्नईः

द्रविड़ मुनेत्र कडग़म (द्रमुक) ने अन्य विपक्षी दलों के साथ मिलकर सोमवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम को कमजोर करने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। सभा को संबोधित करते हुए द्रमुक नेता एम.के. स्टालिन ने कहा कि इस कानून को कमजोर करने का सर्वोच्च न्यायालय का आदेश अस्वीकार्य है। 


स्टालिन ने केंद्र सरकार से सर्वोच्च न्यायालय में अपील दर्ज करने और इस अधिनियम को संविधान की नौवीं अनुसूची में शामिल करने की भी मांग की। विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाले राजनैतिक दलों में द्रमुक, कांग्रेस, आईयूएमएल, एमडीएमके, वीसीके और एमएमके शामिल रहे। 



सर्वोच्च न्यायालय ने मार्च 20 के अपने आदेश में कहा था कि किसी आरोपी को दलितों पर अत्याचार के मामले में प्रारंभिक जांच के बिना इस अधिनियम के तहत अनिवार्य रूप से गिरफ्तार नहीं किया जा सकता।


ताजा समाचार



  • Follow us: