News Flash: तेलंगानाः HC ने खारिज किया मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस का फैसला सुनाने वाले जज का इस्तीफा   ||   वैष्णो देवी यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद  ||   राहुल गांधी का छत्‍तीसगढ़ दौरा रद्द  ||   IPL 2018: मुंबई इंडियंस की टूर्नामेंट में पहली जीत दर्ज,  आरसीबी को 46 रन से हराया     ||     मोहम्मद शमी को कोलकाता पुलिस ने भेजा समन, RCB के खिलाफ मैच खेलना मुश्किल   ||     मोंटे कार्लो मास्टर्स टेनिस टूर्नामेंटः नोवाक जोकोविक दुसान लाजोविक को सीधे सेटों में हराकर अगले दौर में बनाई जगह   ||       अमेरिका की पूर्व प्रथम महिला बारबरा बुश का सेहत खराब होने के चलते 92 साल की उम्र में निधन  ||   नईदिल्लीः 30 साल पुराने मामले में नवजोत सिंह सिद्धू की सजा पर फैसला सुरक्षित  ||   दिल्‍ली:  महिला के सामने अश्‍लील हरकतें करने वाला कैब चालक गिरफ्तार  ||   दिल्‍ली: 12 साल के लड़के ने खेलते खेलते खुद को गोली मारी   ||  

चेन्नईः SC/ST कानून कमजोर करने के खिलाफ DMK के नेतृत्व में विपक्ष का प्रदर्शन

16 Apr 2018 04:59pm |

 

चेन्नईः

द्रविड़ मुनेत्र कडग़म (द्रमुक) ने अन्य विपक्षी दलों के साथ मिलकर सोमवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम को कमजोर करने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। सभा को संबोधित करते हुए द्रमुक नेता एम.के. स्टालिन ने कहा कि इस कानून को कमजोर करने का सर्वोच्च न्यायालय का आदेश अस्वीकार्य है। 


स्टालिन ने केंद्र सरकार से सर्वोच्च न्यायालय में अपील दर्ज करने और इस अधिनियम को संविधान की नौवीं अनुसूची में शामिल करने की भी मांग की। विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाले राजनैतिक दलों में द्रमुक, कांग्रेस, आईयूएमएल, एमडीएमके, वीसीके और एमएमके शामिल रहे। 



सर्वोच्च न्यायालय ने मार्च 20 के अपने आदेश में कहा था कि किसी आरोपी को दलितों पर अत्याचार के मामले में प्रारंभिक जांच के बिना इस अधिनियम के तहत अनिवार्य रूप से गिरफ्तार नहीं किया जा सकता।


ताजा समाचार



  • Follow us: