News Flash:   रायपुरः भाजपा की मुश्किल, एक दर्जन सीट पर दागी दावेदार ठोक रहे ताल  [प]   ||   भोपालः सीरियल किलर मामला: खांबरा तंत्र क्रिया के लिए महीनों घर से रहता था गायब  [प]   ||   इंदौरः इंदौर के खाने खजाने ने शहर को दिलाया 10 करोड़ का अनुदान  [प]   ||     इंदौरः   पिछले साल गिलहरी ने दिए बच्चे तो इस साल बनाए 'गिलहरी गणेश' [प]   ||   इंदौरः  बुजुर्गों- छात्रों को सलाह नहीं दे पाएंगी निवेश कंपनियां [प]  ||   दिल्ली के मोरी गेट इलाके में गोदाम में आग लगने से 1 की मौत, 1 गंभीर रूप से घायल  ||   बीजापुर: एक स्थायी वारंटी नक्सली गिरफ्तार  ||   बलौदाबाजार: हॉटल संचालक के घर से 242 लीटर अवैध डीजल जब्त  ||     बिलासपुर: 67 पुलिस अधिकारियों सहित कर्मचारियों का तबादला आदेश जारी   ||   रायपुर : विकास की जगह गिरीश दुबे बने नए कांग्रेस जिला अध्यक्ष    ||  

चेन्नईः SC/ST कानून कमजोर करने के खिलाफ DMK के नेतृत्व में विपक्ष का प्रदर्शन

16 Apr 2018 04:59pm |

 

चेन्नईः

द्रविड़ मुनेत्र कडग़म (द्रमुक) ने अन्य विपक्षी दलों के साथ मिलकर सोमवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम को कमजोर करने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। सभा को संबोधित करते हुए द्रमुक नेता एम.के. स्टालिन ने कहा कि इस कानून को कमजोर करने का सर्वोच्च न्यायालय का आदेश अस्वीकार्य है। 


स्टालिन ने केंद्र सरकार से सर्वोच्च न्यायालय में अपील दर्ज करने और इस अधिनियम को संविधान की नौवीं अनुसूची में शामिल करने की भी मांग की। विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाले राजनैतिक दलों में द्रमुक, कांग्रेस, आईयूएमएल, एमडीएमके, वीसीके और एमएमके शामिल रहे। 



सर्वोच्च न्यायालय ने मार्च 20 के अपने आदेश में कहा था कि किसी आरोपी को दलितों पर अत्याचार के मामले में प्रारंभिक जांच के बिना इस अधिनियम के तहत अनिवार्य रूप से गिरफ्तार नहीं किया जा सकता।


ताजा समाचार



  • Follow us: