News Flash: गेमिंग की लत बच्चों को नुकसान पहुंचा रही है - बलहारा  ||   पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की 101 वीं जयंती आज, सोनिया-राहुल ने शक्तिस्थल जाकर किया याद  [प]   ||   आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन किया जा रहा है।  ||   बिलासपुर: 13 दिसंबर को होगी नान घोटाला मामले की अगली सुनवाई      ||   बिलासपुर: 13 दिसंबर को होगी नान घोटाला मामले की अगली सुनवाई      ||   धमतरीः कांग्रेस ने 16 लोगों को किया पार्टी से बाहर  ||   छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावः 10 सीटों पर वोटिंग खत्म, 3 बजे तक कुल 41.18 % प्रतिशत मतदान   ||      रायपुरः अमित शाह का शिवरीनारायण में पामगढ़ प्रत्याशी अम्बेश जांगड़े जी के पक्ष में धुंआधार प्रचार     ||   छ.ग.वि.चु.: बस्तर संभाग और राजनांदगांव मे पहले चरण की 10 सीटों पर मतदान बंद    ||   छ.ग. वि.चु. : जगदलपुर मे पहले चरण की 10 सीटों पर मतदान बंद    ||  

चेन्नईः SC/ST कानून कमजोर करने के खिलाफ DMK के नेतृत्व में विपक्ष का प्रदर्शन

16 Apr 2018 05:00pm |

 

चेन्नईः

द्रविड़ मुनेत्र कडग़म (द्रमुक) ने अन्य विपक्षी दलों के साथ मिलकर सोमवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम को कमजोर करने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। सभा को संबोधित करते हुए द्रमुक नेता एम.के. स्टालिन ने कहा कि इस कानून को कमजोर करने का सर्वोच्च न्यायालय का आदेश अस्वीकार्य है। 


स्टालिन ने केंद्र सरकार से सर्वोच्च न्यायालय में अपील दर्ज करने और इस अधिनियम को संविधान की नौवीं अनुसूची में शामिल करने की भी मांग की। विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाले राजनैतिक दलों में द्रमुक, कांग्रेस, आईयूएमएल, एमडीएमके, वीसीके और एमएमके शामिल रहे। 



सर्वोच्च न्यायालय ने मार्च 20 के अपने आदेश में कहा था कि किसी आरोपी को दलितों पर अत्याचार के मामले में प्रारंभिक जांच के बिना इस अधिनियम के तहत अनिवार्य रूप से गिरफ्तार नहीं किया जा सकता।


 

 


ताजा समाचार



  • Follow us:
.