News Flash: जज के बेटे से हुआ था विवाद, गुस्से में गनर ने चलाई गोली  ||   UP मे ट्रेन हादसा: रायबरेली में न्यू फरक्का एक्सप्रेस की 9 बोगियां पटरी से उतरी, 7 की मौत 50 घायल    ||    वाशिंगटनः निक्की हैले ने अमेरिकी राजदूत का पद छोड़ा, ट्रंप ने कबूला इस्तीफा  ||   झारखंड: चलती ट्रेन में युवती से रेप, बेहोश होने पर मरा समझकर छोड़ा, लड़ रही जिंदगी की जंग    ||   पाकिस्‍तान को 48 हाईटेक ड्रोन देगा चीन  ||   UP: अवैध हथियार की फैक्ट्री का पर्दाफाश, 5 अरेस्ट, 84 पिस्टल बरामद  ||   आंध्र प्रदेश की 5 सीटों पर उपचुनाव की कोई जरूरत नहीं: चुनाव आयोग    ||     ||   उत्तराखंड: आतंकी लश्कर-ए-तैयबा ने हरिद्वार समेत 12 रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी, अलर्ट   ||   नईदिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार से कहा- राफेल की खरीद पर फैसले की प्रक्रिया का बताएं ब्यौरा  ||  

भारतीय मूल की सुशीला जयपाल ओरेगॉन पहली दक्षिण एशियाई महिला[प]

16 May 2018 12:50pm |

 

भारतीय मूल की एक और महिला ने अमेरिकी राजनीति में दमदार एंट्री की है। अमेरिकन कांग्रेस की लीडर प्रमिला जयपाल की बहन सुशीला जयपाल ने अमेरिका के ओरेगॉन प्रांत के मल्टीनोमा काउंटी बोर्ड ऑफ कमिश्नर में सदस्य के रूप में जीत हासिल की है। इसके साथ ही वह ऐसी पहली दक्षिण एशियाई महिला लीडर भी बन गई हैं, जिसने इस पद पर जीत हासिल की है। 

पूर्व में कॉरपोरेट वकील और लंबे समय से सामुदायिक स्वयंसेवक सुशीला जयपाल ने कॉन्ट्रैक्टर शेरॉन मैक्सवेल के अलावा दो और लोगों को हरा कर ये जीत हासिल की है। सुशीला अभी राजनीति में काफी नई हैं। वो उत्तर और उत्तरी पूर्व पोर्टलैंड के कमिश्नर के तौर पर प्रतिनिधि होंगी। 

जीत के बाद बहन ने दी ट्वीट कर बधाई

सुशीला की बहन प्रमिला ने जीत के तुरंत बाद ट्वीट किया और इस बात की जानकारी दी। प्रमिला ने लिखा, "मेरी बहन", सुशीला जयपाल,"ओरेगॉन में चुनी गईं पहली दक्षिण एशियाई अमेरिकी बनीं! "प्रमिला, हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स के लिए चुनी गईं पहली भारतीय अमेरिकी महिला हैं।

भारत में जन्म, अमेरिका में शिक्षा

अपनी बहन प्रमिला की तरह सुशीला का जन्म भी भारत में ही हुआ था। जब वह 16 साल की थीं तो उच्च शिक्षा के लिए अमेरिका चली गईं। साल 1983 में जब सुशीला ने अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की। उस वक्त सुशीला की उम्र 20 साल थी। इसके बाद दो साल तक सुशीला ने एक आर्थिक विश्लेषक के तौर पर इनवेस्टमेंट बैंक में काम किया। बाद में सुशीला लॉ की डिग्री के लिए शिकागो यूनिवर्सिटी चली गईं। इसके बाद सुशीला ने सैन फ्रांसिस्को और पोर्टलैंड में कुछ तक वकील के तौर पर काम किया। बाद में सुशीला एडिडास कंपनी की प्रमुख वकील बनीं। 

लोगों की मुफ्त में मदद

बाद में सुशीला ने अमेरिका में राजनीतिक शरण की तलाश कर रहे लोगों को मुफ्त में कानूनी सेवाएं दी। इसके अलावा उन्होंने दक्षिण पूर्व एशिया में स्थित फैक्टरीज़ में काम कर रहे मजूदरों की दशा सुधारने पर भी काम किया। 

भारत से विशेष लगाव

सुशीला भले ही अमेरिका में रच बस गई हों लेकिन उनका भारत से मोह कम नहीं हुआ है। वह समय-समय पर अपने माता-पिता से मिलने भारत आती रहती हैं। 

बेघर लोगों को छत देना पहली प्राथमिकता

सुशीला ने जीत के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि उसकी पहली प्राथमिकता बेघर लोगों को छत देने की है। इसके अलावा वह एक लोकपाल कार्यालय भी खोलना चाहती हैं। सुशीला कहती हैं कि विस्थापिन के शिकार लोगों की मदद करना चाहती हैं। 

 

 


ताजा समाचार



  • Follow us: