News Flash: आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन किया जा रहा है।  ||   बिलासपुर: 13 दिसंबर को होगी नान घोटाला मामले की अगली सुनवाई      ||   बिलासपुर: 13 दिसंबर को होगी नान घोटाला मामले की अगली सुनवाई      ||   धमतरीः कांग्रेस ने 16 लोगों को किया पार्टी से बाहर  ||   छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावः 10 सीटों पर वोटिंग खत्म, 3 बजे तक कुल 41.18 % प्रतिशत मतदान   ||      रायपुरः अमित शाह का शिवरीनारायण में पामगढ़ प्रत्याशी अम्बेश जांगड़े जी के पक्ष में धुंआधार प्रचार     ||   छ.ग.वि.चु.: बस्तर संभाग और राजनांदगांव मे पहले चरण की 10 सीटों पर मतदान बंद    ||   छ.ग. वि.चु. : जगदलपुर मे पहले चरण की 10 सीटों पर मतदान बंद    ||   छत्तीसगढ़ में आज पहले चरण के लिए वोटिंग जारी, 18 सीटों के लिए 192 प्रत्याशी मैदान में   ||   छ.ग. विधानसभा चुनावः चुनाव के दिन भी नक्सलियों का आतंक जारी, दंतेवाड़ा में किया IED ब्लास्ट  ||  

केसी ग्लोबल स्कूल में लगी टीचर ट्रेनिंग वर्कशॉप{य}

17 Jun 2018 06:51pm |

गढ़शंकरः

गढ़शंकर-बंगा रोड पर स्थित केसी ग्लोबल स्कूल डघाम में केसी ग्रुप के चेयरमैन प्रेम गांधी के निर्देश पर स्कूल में दो दिवसीय टीचर ट्रे¨नग वर्कशॉप लगाई गई। जिसमें सभी अध्यापकों ने स्कूल में शिक्षा में नयापन लाने तथा बच्चों के विकास पर अपने विचार रखे।

उन्होंने बताया कि शिक्षा शब्द का सीधा व सामान्य अर्थ सीखने-सिखाने की प्रक्रिया से जुड़ा है तथा इसका लक्ष्य बच्चे का मानसिक, शारीरिक व बौद्धिक विकास करवाना है। शिक्षा का संबंध समाज के साथ है। अगर बच्चा, नागरिक व समाज शिक्षित है, तो देश भी शिक्षित माना जाता है। शिक्षित समाज बनने से उस देश की जीवन शैली बदल जाती है। समाज के प्रति व्यवहार भी अच्छा रहता है। इसके लिए सारा श्रेय एक अच्छे टीचर को ही जाता है, जो अच्छे समाज की स्थापना करता है। वर्कशाप में ¨प्रसिपल प्रो. डॉ. राकेश गुप्ता ने पढ़ाई के नए अध्यापन संबंधी बताया कि हमें पढ़ाते समय किताबों को देख कर भाषण ही नहीं करना है, हमें पढ़ाई को प्रश्नोत्तरी के रूप में लेना है। जिससे छात्रों में पढ़ने की रूची विकसित होगी।


शिक्षक पढ़ाते समय बालक को आसपास का वातावरण में व्याप्त अच्छाइयों व बुराइयों का ज्ञान कराए। टीचर को पढ़ाने के लिए किताबी ज्ञान के साथ ही न्यूजपेपर, मैगजीन, इंटरनेट व टीवी से भी जानकारी लेकर पढ़ाना है। पढ़ाते समय हमें बच्चे के दिमाग को भी पढ़ना है, उसका दिमाग अगर पढ़ाई में नहीं लग रहा तो उसके लिए हमें पढ़ाई को रौचक बनाना होगा, तभी वह पढ़ाई के प्रति अपनी रूची को बढ़ा पाएगा।

 

इस दौरान टीचरों ने अपने अनुभव साझे करते हुए बताया कि इस युग में वे विभिन्न माध्यमों से ज्ञान प्राप्त करते हैं तथा दूसरे दिन अपने विषय को विद्यार्थियों के सम्मुख रखते हैं। ¨प्रसीपल व टीचरों ने इस वर्कशॉप से काफी ज्ञान अर्जित किया।


इस अवसर पर संदीप ¨सह, नवीन कुमार, मनदीप कुमार, गुरप्रताप ¨सह, मीनू शर्मा, जस¨वदर कौर, हरदीप कौर, सरिता, अमनदीप कौर, नवदीप कौर, रणजीत कौर, मनप्रीत कौर, कौशल्या रानी आदि हाजिर रहे।


ताजा समाचार



  • Follow us: