News Flash: रायपुरःछत्तीसगढ़ में यलो अलर्ट, 24 से 48 घंटे में भारी बारिश का पूर्वानुमान[न]  ||   पटनाःबिहार में हादसों का ब्‍लैक फ्राइडे दो सड़क दुर्घटनाओं में पांच की मौत कई घायल[न]   ||   दिल्लीःकल से थम जाएंगे लाखों ट्रकों के पहिए ट्रांसपोर्टर्स ने दी हड़ताल की धमकी[न]   ||   दिल्लीःअपने प्रोडक्‍ट में नमक की मात्रा कम करेगा पेप्सिको[न]   ||   दिल्लीःबाजार में गिरावट सैंसेक्स 22 अंक गिरा और निफ्टी 11000 के नीचे बंद[न]   ||   नई दिल्ली:कांग्रेस ने हर घर में बिजली पहुंचाने का वादा पूरा नहीं किया[न]   ||     वॉशिंगटनः'अमरीका के लिए भारत ‘बड़ी प्राथमिकता’'[न]   ||   पांच जजों की संवैधानिक पीठ पर धारा 377 को लेकर सुनवाई शुरू, समलैंगिकता अपराध है या नहीं इस पर हो रही है सुनवाई  [भ]     ||   दिल्ली में एयरहोस्टेस की कथित खुदकुशी के मामले में पति मयंक सिंघवी को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया. [भ]  ||   मॉनसून सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल होने के लिए संसद पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी [भ]  ||  

केसी ग्लोबल स्कूल में लगी टीचर ट्रेनिंग वर्कशॉप{य}

17 Jun 2018 06:51pm |

गढ़शंकरः

गढ़शंकर-बंगा रोड पर स्थित केसी ग्लोबल स्कूल डघाम में केसी ग्रुप के चेयरमैन प्रेम गांधी के निर्देश पर स्कूल में दो दिवसीय टीचर ट्रे¨नग वर्कशॉप लगाई गई। जिसमें सभी अध्यापकों ने स्कूल में शिक्षा में नयापन लाने तथा बच्चों के विकास पर अपने विचार रखे।

उन्होंने बताया कि शिक्षा शब्द का सीधा व सामान्य अर्थ सीखने-सिखाने की प्रक्रिया से जुड़ा है तथा इसका लक्ष्य बच्चे का मानसिक, शारीरिक व बौद्धिक विकास करवाना है। शिक्षा का संबंध समाज के साथ है। अगर बच्चा, नागरिक व समाज शिक्षित है, तो देश भी शिक्षित माना जाता है। शिक्षित समाज बनने से उस देश की जीवन शैली बदल जाती है। समाज के प्रति व्यवहार भी अच्छा रहता है। इसके लिए सारा श्रेय एक अच्छे टीचर को ही जाता है, जो अच्छे समाज की स्थापना करता है। वर्कशाप में ¨प्रसिपल प्रो. डॉ. राकेश गुप्ता ने पढ़ाई के नए अध्यापन संबंधी बताया कि हमें पढ़ाते समय किताबों को देख कर भाषण ही नहीं करना है, हमें पढ़ाई को प्रश्नोत्तरी के रूप में लेना है। जिससे छात्रों में पढ़ने की रूची विकसित होगी।


शिक्षक पढ़ाते समय बालक को आसपास का वातावरण में व्याप्त अच्छाइयों व बुराइयों का ज्ञान कराए। टीचर को पढ़ाने के लिए किताबी ज्ञान के साथ ही न्यूजपेपर, मैगजीन, इंटरनेट व टीवी से भी जानकारी लेकर पढ़ाना है। पढ़ाते समय हमें बच्चे के दिमाग को भी पढ़ना है, उसका दिमाग अगर पढ़ाई में नहीं लग रहा तो उसके लिए हमें पढ़ाई को रौचक बनाना होगा, तभी वह पढ़ाई के प्रति अपनी रूची को बढ़ा पाएगा।

 

इस दौरान टीचरों ने अपने अनुभव साझे करते हुए बताया कि इस युग में वे विभिन्न माध्यमों से ज्ञान प्राप्त करते हैं तथा दूसरे दिन अपने विषय को विद्यार्थियों के सम्मुख रखते हैं। ¨प्रसीपल व टीचरों ने इस वर्कशॉप से काफी ज्ञान अर्जित किया।


इस अवसर पर संदीप ¨सह, नवीन कुमार, मनदीप कुमार, गुरप्रताप ¨सह, मीनू शर्मा, जस¨वदर कौर, हरदीप कौर, सरिता, अमनदीप कौर, नवदीप कौर, रणजीत कौर, मनप्रीत कौर, कौशल्या रानी आदि हाजिर रहे।


ताजा समाचार



  • Follow us: