News Flash: रायपुरःछत्तीसगढ़ में यलो अलर्ट, 24 से 48 घंटे में भारी बारिश का पूर्वानुमान[न]  ||   पटनाःबिहार में हादसों का ब्‍लैक फ्राइडे दो सड़क दुर्घटनाओं में पांच की मौत कई घायल[न]   ||   दिल्लीःकल से थम जाएंगे लाखों ट्रकों के पहिए ट्रांसपोर्टर्स ने दी हड़ताल की धमकी[न]   ||   दिल्लीःअपने प्रोडक्‍ट में नमक की मात्रा कम करेगा पेप्सिको[न]   ||   दिल्लीःबाजार में गिरावट सैंसेक्स 22 अंक गिरा और निफ्टी 11000 के नीचे बंद[न]   ||   नई दिल्ली:कांग्रेस ने हर घर में बिजली पहुंचाने का वादा पूरा नहीं किया[न]   ||     वॉशिंगटनः'अमरीका के लिए भारत ‘बड़ी प्राथमिकता’'[न]   ||   पांच जजों की संवैधानिक पीठ पर धारा 377 को लेकर सुनवाई शुरू, समलैंगिकता अपराध है या नहीं इस पर हो रही है सुनवाई  [भ]     ||   दिल्ली में एयरहोस्टेस की कथित खुदकुशी के मामले में पति मयंक सिंघवी को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया. [भ]  ||   मॉनसून सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल होने के लिए संसद पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी [भ]  ||  

नई दिल्लीःसमलैंगिक शादियों व लिव इन रिलेशनशिप सुनवाई के दायरे से बाहर[]

11 Jul 2018 08:47am |

नई दिल्लीः

समलैंगिकता को अपराध मानने वाली भारतीय दंड संहिता (आइपीसी) की धारा 377 की वैधानिकता पर सुप्रीम कोर्ट में पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ में मंगलवार से ऐतिहासिक सुनवाई शुरू हुई। कोर्ट ने शुरुआत में ही साफ कर दिया कि वह समलैंगिकों के विवाह, उत्तराधिकार और लिव इन रिलेशनशिप जैसे मुद्दों पर विचार नहीं करेगा। अभी सिर्फ कानून की वैधानिकता पर विचार होगा। कोर्ट सिर्फ यह देखेगा कि दो बालिगों के बीच एकांत में सहमति से बनाए गए समलैंगिक संबंधों को अपराध माना जाए या नहीं।

 

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्र, रोहिंग्‍टन नारिमन, एएम खानविल्कर, डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदू मल्होत्रा की पांच सदस्यीय पीठ ने मंगलवार को मामले पर सुनवाई शुरू की। कोर्ट ने कहा कि वह यह विचार करेगा कि सुप्रीम कोर्ट का का फैसला सही है या नहीं।

 

सुनवाई के दौरान जब कोर्ट से ‘नाज फाउंडेशन’ ने क्यूरेटिव याचिका को भी सुनवाई के लिए लगाने का आग्रह किया तो कोर्ट ने कहा कि वे फिलहाल रिट याचिकाओं पर विचार करेंगे। सुनवाई के दौरान जब याचिकाकर्ता नृतक नवतेज जौहर के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि समलैंगिक सैक्सुअल माइनॉरिटी में हैं।

 

उनके संवैधानिक हित संरक्षित होने चाहिए। कोर्ट को सिर्फ धारा 377 तक ही सीमित नहीं रहना चाहिए। निजी मुद्दों पर भी विचार होना चाहिए। लेकिन केंद्र की ओर से पेश एएसजी तुषार मेहता ने इसका विरोध करते हुए कहा कि सुनवाई सिर्फ 377 तक ही सीमित रहे।

 

पीठ ने स्पष्ट किया कि उनके सामने सिर्फ यही सवाल है कि धारा 377 वैधानिक है या नहीं। इस पर फैसला होने के बाद ही अन्य मुद्दे आते हैं। रोहतगी ने समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर करने की मांग करते हुए कहा कि समलैंगिकों के जीवन और स्वतंत्रता के अधिकारों की रक्षा होनी चाहिए। कोर्ट का का फैसला सही नहीं है।

 

धारा 377 ब्रिटिश कालीन कानून की वजह से 1860 में आइपीसी में शामिल हुई, जबकि प्राचीन भारत में हालात अलग थे। उन्होंने महाभारत के पात्र शिखंडी का उदाहरण दिया। कहा कि इस कानून के कारण समलैंगिक समुदाय (एलजीबीटी) प्रताड़ना ङोल रहा है। धारा 377 यौन नैतिकता को गलत तरीके से परिभाषित करती है।

 

एक अन्य याचिकाकर्ता के वकील अरविंद दत्तार ने कहा कि समलैंगिकता मानव सैक्सुएलिटी की सामान्य प्रक्रिया है। इस पर जस्टिस इंदू मल्होत्र की टिप्पणी थी कि समलैंगिकता सिर्फ मनुष्यों में ही नहीं पशुओं में भी देखी जाती है।

 

दत्तार ने कहा कि अगर ये प्राकृतिक प्रवृति है तो इसे अपराध क्यों माना जाए। उन्होंने निजता को मौलिक अधिकार बताने वाले फैसले का भी हवाला दिया। इस पर जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि अगर यह दलील मानें तो समान लिंग का जीवनसाथी चुनना भी जीने के अधिकार के तहत होगा। इसमें यौन पसंद का अधिकार भी शामिल है।

 

इस मामले में बहस बुधवार को भी जारी रहेगी। माना जा रहा है कि केंद्र सरकार वर्तमान कानून के पक्ष में खड़ी दिखेगी जिसमें समलैंगिकता गैरकानूनी है। क्या है मामला आइपीसी की धारा 377 में अप्राकृतिक यौनाचार को अपराध माना गया है।

 

इसमें 10 वर्ष से लेकर उम्रकैद तक और जुर्माने की सजा हो सकती है। सुप्रीम कोर्ट में कई याचिकाएं लंबित हैं जिनमें इस धारा की वैधानिकता और सुप्रीम कोर्ट के के फैसले को चुनौती दी गई है। अटार्नी जनरल वेणुगोपाल ने मामले से खुद को अलग किया।

 

वेणुगोपाल ने समलैंगिकता मामले में पैरवी से खुद को अलग किया

अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने मंगलवार को समलैंगिकता मामले में पैरवी से खुद को अलग कर लिया। उन्होंने स्पष्ट किया कि चूंकि वह के फैसले के खिलाफ दायर क्यूरेटिव याचिका में एक याचिकाकर्ता की ओर से पेश हुए थे, इसलिए अटॉर्नी जनरल के रूप में वह सरकार का पक्ष रखने की स्थिति में नहीं हैं। उन्होंने इसकी जानकारी संबंधित विधि अधिकारी को दे दी है।का फैसला सही है या नहीं, इस बात पर विचार करेगा कोर्ट

 

 

ताजा समाचार



  • Follow us: