News Flash: आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन किया जा रहा है।  ||   बिलासपुर: 13 दिसंबर को होगी नान घोटाला मामले की अगली सुनवाई      ||   बिलासपुर: 13 दिसंबर को होगी नान घोटाला मामले की अगली सुनवाई      ||   धमतरीः कांग्रेस ने 16 लोगों को किया पार्टी से बाहर  ||   छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावः 10 सीटों पर वोटिंग खत्म, 3 बजे तक कुल 41.18 % प्रतिशत मतदान   ||      रायपुरः अमित शाह का शिवरीनारायण में पामगढ़ प्रत्याशी अम्बेश जांगड़े जी के पक्ष में धुंआधार प्रचार     ||   छ.ग.वि.चु.: बस्तर संभाग और राजनांदगांव मे पहले चरण की 10 सीटों पर मतदान बंद    ||   छ.ग. वि.चु. : जगदलपुर मे पहले चरण की 10 सीटों पर मतदान बंद    ||   छत्तीसगढ़ में आज पहले चरण के लिए वोटिंग जारी, 18 सीटों के लिए 192 प्रत्याशी मैदान में   ||   छ.ग. विधानसभा चुनावः चुनाव के दिन भी नक्सलियों का आतंक जारी, दंतेवाड़ा में किया IED ब्लास्ट  ||  

नई दिल्लीःवाट्सएप ने शुरू किया नया फीचर, यूजर्स जान सकेंगे कि संदेश किसने लिखा[]

11 Jul 2018 09:00am |

नई दिल्लीः

सोशल मैसेजिंग कंपनी वाट्सएप ने अफवाहों पर रोक लगाने के लिए एक नया फीचर शुरू किया है। इस फीचर के उपयोग से यूजर्स जान सकेंगे कि संदेश वास्तविक रूप से किसने लिखा। हालांकि कंपनी का यह भी कहना है कि लेटेस्ट वर्जन को डाउनलोड करने के बाद ही यूजर्स को सुविधा मिलेगी।

 

ध्यान रहे कि महाराष्ट्र के धुले में पांच लोगों की भीड़ ने हत्या कर दी थी। सरकार ने वाट्सएप पर चल रहे संदेशों को इसके लिए जिम्मेदार माना था। कानून व आइटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने तभी सख्त लहजे में कह दिया था कि मैजेसिंग कंपनी कोई ऐसी व्यवस्था शुरू करे जिससे अफवाहों पर रोक लग सके। फेसबुक की यह सहयोगी कंपनी शुरू से ही कहती आ रही है कि इसके लिए तकनीकी कंपनियों, सरकार व कम्युनिटी ग्रुप्स को साझी रणनीति बनाकर काम करना होगा। सभी पक्षों की समग्र जिम्मेदारी बनती है कि वो राष्ट्रहित में काम करें।


कंपनी की तरफ से बताया गया कि नए फीचर में यूजर्स जान सकेंगे कि मैसेज असल में है क्या। इसके बाद ही वह उसे आगे भेज सकेंगे। उन्हें इस बात का ध्यान रखना होगा कि संदेश कहीं राष्ट्र व समाज विरोधी तो नहीं। अगर वो चाहेंगे तो मैसेज को स्पेम कर सकते हैं या फिर कांटेक्ट को ब्लॉक। कोई परेशानी होने की स्थिति में वो कंपनी से संपर्क भी साध सकते हैं।

 

सोशल मैसेजिंग कंपनी ने एक जागरूकता अभियान भी शुरू कर रखा है। इसमें लोगों से अपील की जा रही है कि वो अफवाहों को बढ़ावा न दें। इसके लिए समाचार माध्यमों में विज्ञापन देकर लोगों को चेताया जा रहा है। कंपनी का कहना है कि इस तरह की घटनाओं पर अंकुश लगाने सामूहिक जिम्मेदारी है। इसी वजह से वह जागरूकता अभियान चला रही है। उसका कहना है कि यूजर्स किसी भी संदेश को फारवर्ड करने से पहले दो बार सोचें, तभी उसे शेयर करें?

 

 


ताजा समाचार



  • Follow us: