News Flash: रायपुरःछत्तीसगढ़ में यलो अलर्ट, 24 से 48 घंटे में भारी बारिश का पूर्वानुमान[न]  ||   पटनाःबिहार में हादसों का ब्‍लैक फ्राइडे दो सड़क दुर्घटनाओं में पांच की मौत कई घायल[न]   ||   दिल्लीःकल से थम जाएंगे लाखों ट्रकों के पहिए ट्रांसपोर्टर्स ने दी हड़ताल की धमकी[न]   ||   दिल्लीःअपने प्रोडक्‍ट में नमक की मात्रा कम करेगा पेप्सिको[न]   ||   दिल्लीःबाजार में गिरावट सैंसेक्स 22 अंक गिरा और निफ्टी 11000 के नीचे बंद[न]   ||   नई दिल्ली:कांग्रेस ने हर घर में बिजली पहुंचाने का वादा पूरा नहीं किया[न]   ||     वॉशिंगटनः'अमरीका के लिए भारत ‘बड़ी प्राथमिकता’'[न]   ||   पांच जजों की संवैधानिक पीठ पर धारा 377 को लेकर सुनवाई शुरू, समलैंगिकता अपराध है या नहीं इस पर हो रही है सुनवाई  [भ]     ||   दिल्ली में एयरहोस्टेस की कथित खुदकुशी के मामले में पति मयंक सिंघवी को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया. [भ]  ||   मॉनसून सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल होने के लिए संसद पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी [भ]  ||  

नई दिल्लीःवाट्सएप ने शुरू किया नया फीचर, यूजर्स जान सकेंगे कि संदेश किसने लिखा[]

11 Jul 2018 09:00am |

नई दिल्लीः

सोशल मैसेजिंग कंपनी वाट्सएप ने अफवाहों पर रोक लगाने के लिए एक नया फीचर शुरू किया है। इस फीचर के उपयोग से यूजर्स जान सकेंगे कि संदेश वास्तविक रूप से किसने लिखा। हालांकि कंपनी का यह भी कहना है कि लेटेस्ट वर्जन को डाउनलोड करने के बाद ही यूजर्स को सुविधा मिलेगी।

 

ध्यान रहे कि महाराष्ट्र के धुले में पांच लोगों की भीड़ ने हत्या कर दी थी। सरकार ने वाट्सएप पर चल रहे संदेशों को इसके लिए जिम्मेदार माना था। कानून व आइटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने तभी सख्त लहजे में कह दिया था कि मैजेसिंग कंपनी कोई ऐसी व्यवस्था शुरू करे जिससे अफवाहों पर रोक लग सके। फेसबुक की यह सहयोगी कंपनी शुरू से ही कहती आ रही है कि इसके लिए तकनीकी कंपनियों, सरकार व कम्युनिटी ग्रुप्स को साझी रणनीति बनाकर काम करना होगा। सभी पक्षों की समग्र जिम्मेदारी बनती है कि वो राष्ट्रहित में काम करें।


कंपनी की तरफ से बताया गया कि नए फीचर में यूजर्स जान सकेंगे कि मैसेज असल में है क्या। इसके बाद ही वह उसे आगे भेज सकेंगे। उन्हें इस बात का ध्यान रखना होगा कि संदेश कहीं राष्ट्र व समाज विरोधी तो नहीं। अगर वो चाहेंगे तो मैसेज को स्पेम कर सकते हैं या फिर कांटेक्ट को ब्लॉक। कोई परेशानी होने की स्थिति में वो कंपनी से संपर्क भी साध सकते हैं।

 

सोशल मैसेजिंग कंपनी ने एक जागरूकता अभियान भी शुरू कर रखा है। इसमें लोगों से अपील की जा रही है कि वो अफवाहों को बढ़ावा न दें। इसके लिए समाचार माध्यमों में विज्ञापन देकर लोगों को चेताया जा रहा है। कंपनी का कहना है कि इस तरह की घटनाओं पर अंकुश लगाने सामूहिक जिम्मेदारी है। इसी वजह से वह जागरूकता अभियान चला रही है। उसका कहना है कि यूजर्स किसी भी संदेश को फारवर्ड करने से पहले दो बार सोचें, तभी उसे शेयर करें?

 

 


ताजा समाचार



  • Follow us: