News Flash: आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन किया जा रहा है।  ||   बिलासपुर: 13 दिसंबर को होगी नान घोटाला मामले की अगली सुनवाई      ||   बिलासपुर: 13 दिसंबर को होगी नान घोटाला मामले की अगली सुनवाई      ||   धमतरीः कांग्रेस ने 16 लोगों को किया पार्टी से बाहर  ||   छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावः 10 सीटों पर वोटिंग खत्म, 3 बजे तक कुल 41.18 % प्रतिशत मतदान   ||      रायपुरः अमित शाह का शिवरीनारायण में पामगढ़ प्रत्याशी अम्बेश जांगड़े जी के पक्ष में धुंआधार प्रचार     ||   छ.ग.वि.चु.: बस्तर संभाग और राजनांदगांव मे पहले चरण की 10 सीटों पर मतदान बंद    ||   छ.ग. वि.चु. : जगदलपुर मे पहले चरण की 10 सीटों पर मतदान बंद    ||   छत्तीसगढ़ में आज पहले चरण के लिए वोटिंग जारी, 18 सीटों के लिए 192 प्रत्याशी मैदान में   ||   छ.ग. विधानसभा चुनावः चुनाव के दिन भी नक्सलियों का आतंक जारी, दंतेवाड़ा में किया IED ब्लास्ट  ||  

डबराः   बैंक में राशि आने के बाद भी चक्कर काट रहे हैं हितग्राही [प]

14 Sep 2018 08:24am |

डबरा:

बैंक खाते में सात दिन पहले 38 हजार रुपए की राशि जमा होने के बाद भी हितग्राही भुगतान के लिए तीन दिन से बैंक के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन शाखा प्रबंधक द्वारा हर दिन कोई न कोई बहाना बनाकर हितग्राहियों को वापस लौटाया जा रहा है। हितग्राहियों द्वारा कई चक्कर लगाए जाने के बाद भी अभी तक राशि का भुगतान नहीं हो सका है।

उल्लेखनीय है कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में आयोजित होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों के लिए राशि उपलब्ध कराए जाने के लिए शासन द्वारा प्रत्येक ग्राम पंचायत में संचालित होने वाली आंगनबाड़ी केन्द्रों को मिलाकर एक सदर्थ समिति बनाई जाती है और यही समिति बैंक खाते में भेजे जाने वाली राशि का आहरण करती है और आंगनबाड़ी केन्द्रों पर वितरित करती है।

इस समिति का सेंट्रल मध्यप्रदेश ग्रामीण बैंक में खाता खोला गया है और शासन द्वारा इसी खाते में कार्यक्रमों के लिए राशि का भुगतान किया जाता है। हितग्राहियों का कहना है कि शासन द्वारा लगभग सात दिन पहले ही बैंक में राशि जमा करा दी गई है। राशि के आहरण के लिए समिति के सदस्य पिछले तीन दिनों के बैंक के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन शाखा प्रबेधक द्वारा कभी आधार कार्ड लाने तो कभी बैंक में पैसा न होने की बात कहकर वापस लौटाया जा रहा है। 

इनका कहना है-

हमारी समिति का खाता सेंट्रल मप्र ग्रामीण बैंक में है। जिसमें लगभग सात दिन पहले 38 हजार रुपए की राशि जमा करा दी गई है। समिति के सदस्य बैंक में राशि निकालने के लिए तीन दिन से चक्कर काट रहे हैं, लेकिन शाखा प्रबंधक की मनमानी के कारण अभी तक भुगतान नहीं हो सका है।

 

 

ताजा समाचार



  • Follow us: