आदेश:कोरोना पर नियंत्रण के लिए सभी अस्पतालों की व्यवस्था देखेगी डेडीकेटेड टीम : सीएम

Total Views : 256
Zoom In Zoom Out Read Later Print

नीतीश कुमार ने की कोरोना संक्रमण और बाढ़ की स्थिति की समीक्षा

राज्य में कोरोना पर नियंत्रण के लिए सभी जिलों में अस्पतालों की व्यवस्था डेडीकेटेड टीम देखेगी ताकि मरीजों के अस्पताल आने के बाद किसी प्रकार की कठिनाई नहीं हो। मंगलवार को राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण और बाढ़ की ताजा स्थिति की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्य सचिव दीपक कुमार को इस बाबत कार्रवाई का आदेश दिया। उन्होंने आरटीपीसीआर टेस्ट की संख्या बढ़ाने की आवश्यकता जताई। मुख्यमंत्री ने कहा कि अस्पतालों में स्थापित कंट्रोल रूम के माध्यम से वहां भर्ती मरीजों से प्रतिदिन बात कर उनके स्वास्थ्य की स्थिति, दवा की उपलब्धता और उनकी समस्याओं के संबंध में जानकारी ली जाए। साथ ही होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों की भी लगातार माॅनिटरिंग की जाए। अगर उन्हें किसी प्रकार की चिकित्सा सुविधा की जरूरत हो तो तत्काल उसका इंतजाम किया जाना चाहिए। अस्पतालों में चिकित्सीय सुविधा, दवा व अन्य उपकरणों, भोजन और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में आवश्यकता के हिसाब से कम्युनिटी किचन और राहत केंद्रों की संख्या बढ़ाने का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि राहत केंद्रों में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन किया जाए जो भी लोग वहां पर रह रहे हैं उन्हें मुफ्त मास्क मुहैया कराया जाए। प्रशासन से जुड़े लोग बेहतर काम कर रहे हैं, उन्हें संकट की इस घड़ी में पूरी तैयारी रखनी चाहिए।

कंट्रोल रूम के जरिए रखी जाएगी कोरोना मरीजों के इलाज पर नजर

राज्य में कोरोना मरीजों के इलाज पर कंट्रोल रूम के जरिए नजर रखी जाएगी। कंट्रोल रूम में तैनात कर्मी प्रतिदिन सभी संक्रमित मरीजों से फोन पर बात करेंगे। इसके जरिए हरेक अस्पताल के कोविड-19 वार्ड में डाॅक्टर के आने, दवा की उपलब्धता और मरीज के स्वास्थ्य के ताजा अपडेट की जानकारी चली जाएगी। मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही प्रेस कॉन्फ्रेंस में आईपीआरडी सचिव अनुपम कुमार ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मरीज को अगर कोई परेशानी हुई तो उसका तत्काल निपटारा किया जाएगा।

24 घंटे में 16275 सैंपल की जांच की गई

आईपीआरडी सचिव ने बताया कि टेस्टिंग क्षमता के विस्तार के साथ-साथ ऑक्सीजनयुक्त बेड भी बढ़ाया जा रहा है। नए अस्पताल भी तैयार किए जा रहे हैं। अस्पताल में एडमिट की प्रक्रिया में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हो, इसके लिए ‘मे आई हेल्प यू’ बूथ या रिसेप्शन की व्यवस्था कोविड-19 इलाज से संबंधित सभी अस्पताल में की जा रही है। पिछले 24 घंटे में 16275 सैंपल की जांच की गई है। इस दौरान कोरोना से 1376 लोग स्वस्थ हुए हैं। और अब तक 29220 लोग कोविड-19 संक्रमण से स्वस्थ हो चुके हैं। बिहार का रिकवरी रेट 67.03 प्रतिशत है।

See More

Latest Photos